Wednesday, January 28, 2009

धूप ने दी आज

नए मौसम के आने की ख़बर !

मन हो उठा है तरंगित

और हल्का होने का एहसास है पोर-पोर में

बातें चलने लगती हैं फिर

लस्सी, ठंडाई और शर्बत की -

कुछ हल्के सूती कुर्तों की ......

तमाम नए फूलों की

और पेड़ों की ठंडी छाँव की

कुछ फालसे और कच्चे अमरुद -

और रस भरे तरबूज

नए की दस्तक और बदलाव का स्वागत है !


2 comments:

अमिताभ श्रीवास्तव said...

apke blog par pahli baar aaya...
panktiyo ne ek vishesh sthaan ko mere mastishk me utar diya ki blog par aana sarthak ho gaya..
bahut achcha likhti he aap..

नवीन शर्मा said...

Even I was 'brrrring' in this cool evening, but I felt warmth of your words and put off my sweater.. what an influential flow your words have.. amazing !!!

Keep writing, sorry for not being present for last few days..

I have read them all, one by one and again and again... they are deep and touch someone inside us with all of its intelligence and wisdom.

I have one word to describe your poetry - 'Beautiful'

Regards
N